सभी CSP को सूचित किया जाता है कि कैंप करके असंगठित क्षेत्र में कार्यरत व्यक्तियों का खाता खोलने  का भरपूर प्रयास करे | |SBI के अनुसार प्रत्येक csp को Withdrawal के लिए Perday Rs. 50,000.00 लिंक ब्रांच से उपलब्ध करनाने की सुविधा की गयी है | सभी CSP को सूचित किया जाता है की 2000 रूपया से ज्यादा Deposit और Withdrawal Transaction करे | 2000 से ज्यादा Deposit और Withdrawal करने पर आपका कोड बंद कर दिया जायेगा ! It is pleasure to inform that we have been engaged as Business Correspondent of Purvanchal Bank, Gorakhpur(UP)  PLEASE CONTACT US FOR OPENING & MAINTAINING OF BANK’S CUSTOMER SERVICE POINT {CSP} IN ANY STATE : किसी भी राज्य में बैंक का ग्राहक सेवा केन्द्र खोलने वास्ते हमसे अविलंब संपर्क करें I केवल उत्तर प्रदेश में CSP के लिए संपर्क करें9695808105

 

CAUTION:
1. NO ANY PERSON IS AUTHORIZED BY "SANJIVANI" TO COLLECT CHEQUE/DRAFT/CASH FROM THE CSP/APPLICANT. Please inform us if anybody insists for the same.
2. Deposit any Cash/Cheque/Draft personally in the SBI A/C NO.:34520714998 in the name of "SANJIVANI VIKAS FOUNDATION" situated at Patna Main Branch, Patna, Bihar (IFSC: SBIN0000152)

ABOUT SANJIVANI

SANJIVANI VIKAS FOUNDATION is registered under the societies Registration Act, 21 of 1860 having its Registered Office at Patna (Bihar).

The Organization has engaged itself in the field of development with the tools of Banking, Insurance, Education, Sports, etc for the benefit of society in general and the marginalized people in particular.

Presently, we are National Business Correspondent of State Bank of India (SBI) and Corporate Business Correspondent of Punjab National Bank (PNB) & Madhya Bihar Gramin Bank (MBGB) and Business Correspondent of Purvanchal Bank(PB).

We are also working as Resolution Agent of SBI and as Recovery Agent of PNB, Allahabad Bank and MBGB.

ABOUT KIOSK BANKING

A large number of people, living on the boundary line of the socioeconomic structure, particularly the lower income group (LIG), economically weaker society (EWS), laborers, agriculture/ factory workers and women do not have a savings account and moreover they are not able to open such accounts due to lack of valid address and ID proof. As a result they face difficulties in parking their hard earned money in a safer place.

BANKING+

Convert your shop/establishment in a Customer Service Point (CSP) and provide banking, insurance, pension and other related financial services to your customers!

The Kiosk Banking Business Correspondent (BC) model aims to provide real time, user friendly financial services to the consumers in their neighborhood itself. “Sanjivani” is dedicated to propagate the Kiosk banking services to Metro / Urban / Semi-Urban / Rural / Hilly / Difficult areas and to create new Kiosk Banking agents across the country.

IMAGE GALLERY

WELCOME TO

SANJIVANI CSP DAILY REPORT

View

WELCOME TO

SANJIVANI CSP DAILY REPORT

View

WELCOME TO

SANJIVANI CSP DAILY REPORT

View

WELCOME TO

SANJIVANI CSP DAILY REPORT

View

WELCOME TO

SANJIVANI CSP DAILY REPORT

View

WELCOME TO

SANJIVANI CSP DAILY REPORT

View

WELCOME TO

SANJIVANI CSP DAILY REPORT

View

WELCOME TO

SANJIVANI CSP DAILY REPORT

View

भारत सरकार लोगों को कैशलेस अर्थव्यवस्था की तरफ प्रोत्साहित कर रही है । कैशलैस अर्थव्यवस्था को तभी पाया जा सकता है जब अर्थव्यस्था में धीरे-धीरे कैश को कम किया जाए और सभी लेन-देन इलेक्ट्रॉनिक माध्यम जैसे प्रत्यक्ष डेबिट, क्रेडिट और डेबिट कार्ड, इलेक्ट्रॉनिक क्लिरिंग और भुगतान प्रणाली जैसे तत्काल भुगतान सेवा (आईएमपीएस), राष्ट्रीय इलेक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (एनईएफटी) और रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (आरटीजीएस) से इस्तेमाल किया जाए।

देश में कैशलैस अर्थव्यवस्था से नागरिकों को होने वाले लाभ:

  • वस्तु और सेवाओं को प्राप्त करने के लिए नकदी ले जाने की जरुरत नहीं है । करंसी नोट लेकर चलने और मेहनत से कमाए गए धन को खोने से बचा जा सकता है ।
  • खुले पैसे न होने की स्थिति में अतिरिक्त कीमत देने से बच सकते हैं जिसका परिणाम यह है कि वास्तविक बकाया राशि का ही भुगतान किया जा सकता है । लेन-देन की कीमत कम हो सकती है ।
  • खरीदारी में सुविधा, बिलों का भुगतान और वित्तीय लेन-देन को घर, ऑफिस या कहीं से भी अपने स्मार्ट फोन के जरिए किया जा सकता है ।
  • यह वित्तीय लेन-देन को प्रमाणित करता है और समुचित रिकार्ड बनाए रखता है । सभी आर्थिक लेन-देन इलेक्ट्रॉनिक माध्यमों से हो तो यह असंभव है कि काला बाजारी हो और भूमिगत अर्थव्यवस्था बने और राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचे ।
  • डिजीटल भुगतान परोक्ष रुप से करंसी नोट की प्रिटिंग और आवागमन की जरुरत के खर्च को कम करता है ।
  • इलेक्ट्रॉनिक लेन-देन भ्रष्टाचार से लड़ने और काले धन के प्रवाह को कम करने में मदद करता है। इस तरह देश के आर्थिंक विकास में मदद करता है ।
  • कैश का कम इस्तेमाल इसके अवैध होने को रोकता है और बेहतर कर (टैक्स) अनुपालन करता है ।
  • कर आधार में वृद्धि का परिणाम यह होगा कि राज्य के लिए ज्यादा राजस्व और सरकार के जन कल्याण कार्यक्रमों के फंड के लिए ज्यादा धनराशि उपलब्ध होगी ।

संजीवनी विकास फाउंडेशन, सरकार की मदद के लिए और राष्ट्र को कैशलैस डिजीटल अर्थव्यवस्था बनाने में आपका सहयोग और समर्थन चाहती है।